जज्बा !!!

पहली चाल तेरी सही …पर आखरी मेरी रहेगी पहली चाल तेरी सही …पर आखरी मेरी रहेगी ये तख्त-ए- शतरंज तेरा सही……ऐ वक्त, लेकिन बाजी हमेशा…

आख़िर “मैं” कौन ?

छोटीसी इस जिंदगी में अपनी न जाने कितने किरदार होते है कभी दावेदार हम, तो कभी हक़दार होते है कभी खुदगर्ज तो कभी मददगार होते…

Bread oriented education

ढ़ेरों इन किताबों के पन्ने है अनगिनत, पढ़ता हूँ क्योंकि..है ख्वाहिशें भी अनगिनत..! क्या मैंने हैे समझा, क्या है मैंने जाना..? पेट के लिए ही…

शिक्षण

शिक्षण शिक्षणासाठी पदवी अन् पदवीसाठी शिक्षण. राहत नाही एकसारखे,हे क्षणात बदलणारे शिक्षण.! गरज मिटली,जीभ सुटली,अन् विसरलो स्वर,व्यंजन, स्वप्ने मोठी तरीही दाखवी हे आजचे आधुनिक शिक्षण,…